May 11, 2021

UK LIVE

ख़बर पक्की है

धर्मध्वजा स्थापना

परंपरागत धार्मिक अनुष्ठानों से हुई कुंभ की शुरुवात, गंगा सभा संतों ने स्थापित की धर्मध्वजा !

उत्तराखंड, हरिद्वार कुंभ 2021, कुंभ की अधिसूचना में सरकार की ओर से कुंभ के आयोजन की ताऱीख भले ही 1 अप्रैल की तय की गई हो, लेकिन संतों और गंगा सभा ने गुरूवार को ही परंपरागत तरीके से कुंभ मेले की शुरूवात कर दी है. धर्मधव्जा की स्थापना का होना अपने आप में महत्वपूर्ण होता है. श्रीगंगा सभा ने हर की पौड़ी स्थित ब्रह्मकुंड पर वैदिक विधि विधान से मां गंगा की धर्मध्वजा स्थापित की.

मां गंगा सनातन धर्म की आस्था का प्रतीक हैं. और यही वजह है कि हर की पौड़ी स्थित ब्रह्मकुंड पर धर्मध्वजा की स्थापना होना सभी सनातनियों के लिए सुखद और ऐतिहासिक क्षण रहा. धर्मध्वजा की स्थापना से पहले श्री गंगा सभा से जुड़े सभी तीर्थ पुरोहितों ने हरिद्वारभर में शोभा यात्रा भी निकाली. जिसका नगरवासियों ने ह्रदय से स्वागत किया.

गंगा आरती के करें दर्शन

इसी के साथ गुरुवार को कुंभ मेले के शाही स्नान के लिए श्री पंचायती निरंजनी अखाड़े के रमता,पंच बैंड बाजे के साथ नमगर में प्रवेश किया. रमता पंचों के नगर प्रवेश करने पर कुंभ मेलाधिकारी दीपक रावत ने सभी का माल्यापर्ण कर स्वागत किया. इस मौके पर खुद मेलाधिकारी दीपक रावत ने कहा कि एक तरह से आज से धार्मिक आयोजनों के साथ कुंभ मेले की शुरूवात हो गई है.

मेला अधिकारी रावत ने कहा कि साधु संतों के आर्शिवाद से हरिद्वार कुंभ का आयोजन बेहद भव्य, सुंद, सुरक्षित और दिव्य होगा. अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष श्रीमहंत नरेंद्र गिरि ने रमता पंचों के नगर प्रवेश शोभा यात्रा की अगुवाई की. इस मौके पर श्रीमहंत ने बताया कि पूरे देश में सनातन धर्म का प्रचार करने वाले साधु संतों और महात्माओं का कुंभ के मौके पर एकत्रित होकर नगर प्रवेश करना बेहद प्राचीन परंपरा है जो सनातन धर्म को मजबूत करती है.

Share, Likes & Subscribe