May 11, 2021

UK LIVE

ख़बर पक्की है

सावधान – कोरोना ने किया नया “वेरिएंट लांच”

नेशनल डेस्क- नई दिल्ली- ब्रिटेन में कोरोना वायरस के नए वैरिएंट के मिलने के बाद यूरोप समेत दुनिया के दूसरे देशों में हड़कंप मचा हुआ है, और इससे भारत भी अछूता नहीं है। भारत सरकार ने ब्रिटेन से सभी फ्लाइट को 31 दिसंबर तक रोक दिया है। और दुनियाभर में कई यूरोपीय और अन्य देश ब्रिटेन से यात्रा को प्रतिबंधित कर चुके हैं क्योंकि यूनाइटेड किंगडम में महामारी SARS-COV-2 कोरोना वायरस का एक नया संस्करण तेजी से फैल रहा हैं। पिछले हफ्ते, दक्षिण और पूर्वी इंग्लैंड में कोविड-19 मामलों में तेजी से वृध्दि के पीछे नए SARS-COV-2 संस्करण का कारण बताया गया था। वेरिएंट की पहचान जीनोमिक सर्विलांस में COVID-19 Genomics(COG-UK) की गई हैं। इसे VUI(Variant Under Investigation) 202012/01 या B.1.1.7 वंश के रूप में संदर्भित किया जा रहा है।

ब्रिटेन में कोरोना वासरस के नए वैरिएंट के मिलने के बाद यूरोप समेत दुनिया के दूसरे देशों में मचा हड़कंप

यूके के स्वास्थय सचिव मैट हैनकॉक ने 14 दिसंबर को हाउस ऑफ कॉमन्स को ये बताते हुए कहा,कि यूके के अधिकारियों ने पहले ही विश्व स्वास्थ्य संगठन को वेरिएंट के बारे में जानकारी दे दी है और साथ ही उन्होनें कहा ,की पिछले कुछ दिनों में, हमने कोरोना वायरस के एक नए संस्करण की पहचान की है, जो कि इंग्लैंड के दक्षिण में तेजी से फैलता दिखाई दे रहा हैं।
स्वास्थय मंत्री ने कहा कि हमें कोरोना वायरस के इस नए स्वरूप से घबराने की जरूरत नहीं है, अगर हम नियमों से इसका पालन करेंगे और घर से बाहर जाते समय मास्क पहनेंगे, तो चाहे कितने भी नए स्वरूप आ जाए, हम ऐसे किसी भी वायरस से सुरक्षित रह सकते हैं। उन्होंने यह भी कहा कि कोरोना का यह नया स्वरूप काफी तेजी से फैल रहा है, इसलिए हमें पहले से ज्यादा सतर्क रहना होगा।

यूके के अधिकारियों ने विश्व स्वास्थ्य संगठन को वेरिएंट के बारे में जानकारी दी

जानकारी के मुताबिक हाल ही में BIONTECH और फाइजर ने दावा किया था कि वह कोरोना वायरस म्यूटेशन को खत्म करने वाली वैक्सीन 6 हफ्ते में बना सकते हैं। और बताया कि कोरोना वायरस के नए स्ट्रेन से मुकाबला करने के लिए उनकी वैक्सीन सक्षम है।
हालांकि, विशेषरज्ञों की माने तो मौजूदा वैक्सीन कोरोना के इस बदले स्वरूप से लड़ने के लिए सक्षम है।

यूके से भारत आने वाले कई लोग कोरोना वायरस संक्रमित हैं।

वही जानकारी के मुताबिक जो लोग COVID-19 संक्रमण के बाद खुद को ठीक करते हुए नजर आए है, वो लोग कम से कम 8 महीनों तक से कोई भी संक्रमण से बचने में कामयाब रह सकते हैं। भारत में अभी तक इस कोरोना वायरस के बदले हुए स्वरूप से जुड़ा कोई मामला सामने नही आया है। लेकिन साथ ही हम इस बात से इन्कार भी नही कर सकते कि यूके से भारत आने वाले कई लोग कोरोना वायरस संक्रमित पाए गए हैं।

Share, Likes & Subscribe