January 28, 2021

UK LIVE

ख़बर पक्की है

क्रिसमस और नये साल के जश्न पर लगा ग्रहण

इन तारीख़ों पर रहें ख़बरदार !

उत्तराखंड- कोरोना काल में देश में होने वाले त्योहारों पर तो ग्रहण लगा ही, लेकिन अब इस ग्रहण काला साया तीन और तारीखों पर पड़ने वाला है. ये तारीखें हैं 25, 31 दिसम्बर और 1 जनवरी. ये वो तारीखें हैं जो उत्तराखंड आने वाले सैलानियों के साथ-साथ यहां के आम निवासियों के लिए भी मुसीबत भरी तो हैं. लेकिन उनकी सुरक्षा के लिहाज से सहूलियत भरी भी हैं।
हाल ही में राजधानी देहरादून के कलेक्टर डॉ. आशीष श्रीवास्तव ने एक आदेश जारी किया था. जिसमें कहा गया था, कि देहरादून में 25, 31 दिसम्बर और 1 जनवरी को किसा भी तरह की पार्टी या गैदरिंग कोविड एक्ट के तहत नहीं होगी.

25, 31 दिसम्बर और 1 जनवरी पर लगा कोरोना का ग्रहण

इस आदेश को पारित हुए कुछ घंटे ही बीते थे, कि इस आदेश की धमक सरोवर नगरी नैनीताल में भी सुनाई दी है। जिसके बाद अब नैनीताल में भी क्रिसमस और थर्टी फर्स्ट पर नाइट कर्फ्यू लग सकता है. 23 दिसम्बर को क्वारंटाइन सेंटरों की बदहाल व्यवस्थाओं को लेकर दायर याचिकाओं पर सुनवाई के दौरान जिला निगरानी कमेटी ने हाईकोर्ट को रात आठ बजे से सुबह दस बजे कर्फ्यू लगाने का सुझाव दिया है. जिसके बाद हाईकोर्ट ने सरकार से इस सुझाव पर अमल करने को कहा है. इस दौरान सरकार ने कुम्भ के लिए जारी की जाने वाली एसओपी की जानकारी भी अदालत को दी.
जानकारी दी जा रही है, कि कोविड संक्रमण को रोकने के लिए जिला प्रशासन की ओर से पर्यटकों की कोविड जांच को अनिवार्य किया जा रहा है. साथ ही सामाजिक दूरी का पालन करने, मास्क पहनने और सार्वजनिक स्थानों पर भीड़ को इकट्ठा होने से रोकने के लिए अतिरिक्त पुलिस फोर्स की भी तैनाती की जा रही है।

क्रिसमस और नये साल की होने वाली पार्टियों पर हाईकोर्ट नमे लगाई रोक
क्रिसमस और नये साल की होने वाली पार्टियों पर हाईकोर्ट नमे लगाई रोक

बुधवार को मुख्य न्यायाधीश रवि मलिमठ और न्यायमूर्ति आलोक कुमार वर्मा की खंडपीठ में अधिवक्ता दुष्यंत मैनाली और सच्चिदानंद डबराल की जनहित याचिका पर सुनवाई हुई। जिसमें राज्य सरकार ने शपथ पत्र पेश करते हुए कहा, कि महाकुंभ के दौरान सामाजिक दूरी और जारी गाइडलाइन्स के अनुपालन के लिए होने वाली अगली सुनवाई में कुंभ के लिए एसओपी जारी कर दी जाएगी।
इसी के साथ कोर्ट ने क्रिसमस और नये साल की होने वाली पार्टियों रोकने के लिए किए गए इंतजामों के बारे में पूछा. जिस पर सरकार ने देहरादून और मसूरी के जिलाधिकारी द्वारा होटलों और सार्वजनिक स्थानों पर पूरी तरह पाबंदी लगा देने की बात कही. वहीं ऐसे आयोजन करवाने वाले लोगों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई के आदेश भी जारी किए गए हैं. जिस पर कोर्ट ने संतुष्टि जताई। वहीं नैनीताल के बारे में पूछने पर सरकार ने जिलाधिकारी के निर्णय लेने की बात कही है।

Share, Likes & Subscribe