April 10, 2021

UK LIVE

ख़बर पक्की है

नैनीताल हाईकोर्ट की ओर से मुकदमों की स्वयं पैरवी के लिए जारी व्यवस्था पार्टी-इन-पर्सन को संशोधित कर नियमावली तैयार की गई है.

खुद कर सकेंगे अपने मुकदमे की पैरवी. जानें क्या हैं नये नियम!

उत्तराखंड- नैनीताल हाईकोर्ट की ओर से मुकदमों की स्वयं पैरवी के लिए जारी व्यवस्था पार्टी-इन-पर्सन को संशोधित कर नियमावली तैयार की गई है. अभी तक चली आ रही व्यवस्था के मुताबिक कोई भी शख्स अपने केस की पैरवी या बहस बिना अधिवक्ता नियुक्त किए स्वयं करता था. लेकिन नैनीताल हाईकोर्ट की ओर से जारी अधिसूचना में कोर्ट की मर्यादा, डेकोरम, सहित विभिन्न पहलुओं को ध्यान में रखते हुए नई नियमावली तैयार की गई है.

नैनीताल हाईकोर्ट ने स्वयं मुकदमों की पैरवी के लिए बनाई नई नियमावली
नैनीताल हाईकोर्ट ने स्वयं मुकदमों की पैरवी के लिए बनाई नई नियमावली

नये नियमों के मुताबिक, अपने मुकदमों की स्वयं पैरवी के लिए पार्टी-इन-पर्सन को जांच के लिए गठित कमेटी के समक्ष प्रस्तुत होना होगा. आवश्यक पैरवी के लिए दिए गए दिशा-निर्देशों के क्रम में शपथपत्र देने के बाद ही शख्स अपनी पैरवी कर सकेगा. हाईकोर्ट के रजिस्ट्रार जनरल धनंजय चतुर्वेदी ने इसकी अधिसूचना जारी कर दी है। जिसमें कहा गया है, कि हाईकोर्ट ने अपने मुकदमों की पैरवी स्वयं करने के लिए ये नियमावली बनाई है. इन नियमों के तहत जो भी व्यक्ति अपने मुकदमों की पैरवी खुद करना चाहता है, उसे रजिस्ट्री कार्यालय में प्रार्थना पत्र देना होगा. जिस पर मुख्य न्यायाधीश की ओर से गठित कमेटी विचार-विमर्श करेगी.

कोर्ट के डेकोरम, आचरण, और भाषा की दी जाएगी जानकारी
कोर्ट के डेकोरम, आचरण, और भाषा की दी जाएगी जानकारी

पार्टी-इन-पर्सन कमेटी में रजिस्ट्री कार्यालय के दो अफसर नॉमिनेट किए जाएंगे. कमेटी के अधिकारी आवश्यक जांच के बाद ही संबंधित शख्स को पैरवी के लिए प्रणाम पत्र देंगे. इसी के साथ पैरवी करने वाले को कोर्ट के डेकोरम, आचरण, बहस की भाषा सहित विभिन्न आवश्यक पहलुओं की भी जानकारी दी जाएगी. जिसके-बाद-पार्टी इन पर्सन वाले शख्स को भी कोर्ट की गरिमा के पालन करने का शपथ पत्र देना होगा.
हाईकोर्ट की अन्य अधिसूचना के मुताबिक अब वादों की सूची में राष्ट्रीय चिन्ह प्रकाशित नहीं किया जाएगा. जिसके बाद इसे तत्काल प्रभाव से लागू कर दिया जाएगा

Share, Likes & Subscribe