March 2, 2021

UK LIVE

ख़बर पक्की है

6-8वीं के बच्चे जल्द जाएंगे स्कूल, सरकार कर रही है तैयारी !

उत्तराखंड- उत्तराखंड में वैक्सीनेशन प्रक्रिया शुरु होने और कोरोना संक्रमण की दर खत्म होते देख सरकार ने पांचवी से ऊपर सभी कक्षाओं की खोलने की तैयारियां शुरु कर दी है. छठी से आठवी तक की कक्षाओं को 1 फरवरी से खोलने की योजना है. जिसके लिए शिक्षा मंत्री अरविंद पांडे ने शिक्षा निदेशक आरके. कुंवर को स्कूल खोलने के लिए प्रस्ताव तैयार करने के निर्देश दिए हैं.

6-8वीं क्लास के बच्चों के खुलेंगे स्कूल
फाइल फोटो- 6-8 वीं क्लास के बच्चों के खुलेंगे स्कूल

इससे पहले विभागीय प्रस्ताव लिया जा रहा है, जिसमें अभिभावकों की राय भी मांगी गई है. कोरोना के चलते 8 महीनो तक स्कूलों को बंद रखा गया था. जिसके बाद नवंबर में 10वीं से 12वीं तक के विद्यार्थियों के लिए स्कूल खोल दिए गए थे. लेकिन स्कूल में केवल वे ही छात्र आ सकते थे, जिन्हें उनके पेरेंट्स से परमिशन मिल चुकी थी.

शिक्षा सचिव आर. मिनाक्षी सुंदरम ने शिक्षा निदेशक और सभी नोडल अधिकारियों को अतिरिक्त सतर्कता बरतने के निर्देश दिए हैं. शिक्षा सचिव ने जानकारी देते हुए बताया, कि स्कूल संचालन के लिए विस्तृत एसओपी जारी की जा चुकी है. हर स्कूल के प्राधानाचार्य को नोडल अधिकारी बनाया गया है.

शिक्षा निदेशक और सभी नोडल अधिकारियों को अतिरिक्त सतर्कता बरतने के निर्देश
शिक्षा निदेशक और सभी नोडल अधिकारियों को अतिरिक्त सतर्कता बरतने के निर्देश

ये नोडल अधिकारी कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए तय मानकों के पालन के लिए जिम्मेदार होंगे. कोरोना के चलते स्कूल का फॉर्मेट बिल्कुल बदल चुका है. मैदान में होने वाली प्रेयर अब क्लासरूम्स में भी की जा सकती है. साथ ही सभी तरह के सांस्कृतिक और खेल गतिविधियां भी बंद रहेंगी.

इसके अलावा यदि स्कूल में कोई विद्यार्थी कोरोना पॉजिटिव पाया जाता है, तो इसकी सूचना तुरंत ही शिक्षा और स्वास्थ्य विभाग को देनी होगी. एसओपी का उल्लंघन होने पर दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी.

स्कूल में एंट्री से पहले करने होंगे कुछ नियमों के पालन
फाइल फोटो- स्कूल में एंट्री से पहले करने होंगे कुछ नियमों के पालन

स्कूलों में प्रवेश से पहले छात्रों को कोरोना से जुड़े नियमों के पालन करने होंगे. जिसमें ये नियम शामिल हैं- –मास्क के बिना स्कूल में नो एंट्री. -अभिभावक की लिखित मंजूरी अनिवार्य. प्रार्थना सभा, खेल, सांस्कृतिक गतिविधियां प्रतिबंधित. -शिक्षक-कार्मिक छात्रों के लिए मास्क अनिवार्य. -थर्मल जांच, हेंड सेनीटिजेशन के बाद ही स्कूल में एंट्री. -हर पाली के बाद कक्षाओं का सेनेटाइजेशन. -छात्रों के बीच 6 फीट की दूरी. -स्कूल वेन और बसों का डेली सेनेटाइजेशन और सोशल डिस्टेंसिंग से संचालन.

Share, Likes & Subscribe