April 20, 2021

UK LIVE

ख़बर पक्की है

2021 में आयोजित होने वाले कुंभ की तैयारी जोरों पर

कुंभ मचाए कोहराम – महंत हरिगिरी

उत्तराखंड-हरिद्वार- 2021 में आयोजित होने वाले कुंभ को लेकर पूरे देश में उत्साह है। हरिद्वार के साथ-साथ मथुरा में भी कुंभ का आयोजन किया जा रहा है। कोरोना को ध्यान में रखते हए इसकी तैयारियां जोरों पर हैं। शासन और प्रशासन दोनों ने इस विशाल मेले के लिए अपनी कमर कस ली है।

आगामी 25 दिसम्बर को आयोजित बैठक में अखिल भारतीय परिषद कुंभ के स्वरुप पर अंतिम निर्णय लेगी
आगामी 25 दिसम्बर को आयोजित बैठक में अखिल भारतीय परिषद कुंभ के स्वरुप पर अंतिम निर्णय लेगी

वहीं बताया जा रहा है, कि आगामी 25 दिसम्बर को आयोजित बैठक में अखिल भारतीय परिषद कुंभ के स्वरुप पर अंतिम निर्णय लेगी। इससे पहले मंगलवार को परिषद के पदाधिकारी, मेला प्रशासन के साथ मेला आयोजित क्षेत्र का भ्रमण कर पेशवाई मार्गों और छावनी स्थलों का निरीक्षण करेंगे ताकि यहां होने वाले काम जल्दी से जल्दी शुरु किए जा सके। मीडिया से बात करते हुए अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत गिरी ने बताया, कि कुंभ के आयोजन में अब काफी कम समय रह गया है।

हरिद्वार ही नहीं बल्कि देश भर में कोरोना के मामले में काफी कमी आ रही है। अखाड़ा परिषद ने पूर्व में निर्णय लिया था, कि कुंभ का स्वरुप आने वाले समय में कोरोना के हालात को देखते हुए तय किया जाएगा। जिसके चलते आने वाली 25 दिसम्बर को नया उदासीन अखाड़े में अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद की महत्वपूर्ण बैठक आयोजित की जाएगी। जिसमें कुंभ के अंतिम स्वरुप पर विचार-विमर्श कर निर्णय लिया जाएगा।

परिषद अध्यक्ष ने कहा, कि वे अखाड़ों के प्रतिनिधियों और मेला प्रशासन के अधिकारियों के साथ अखाड़ों का भ्रमण करेंगे। कुंभ के लिए होने वाले कामों से मेला प्रशासन को जागरुक कराया जाएगा। किसी भी तरह की कोई गलती न हो इसका विशेष ध्यान दिया जा रहा है।

अखाड़ा परिषद के महामंत्री श्री महंत हरिगिरी ने ये भी कहा, कि जब यूपी सरकार भीड़ की चिन्ता करे बिना प्रयागराज में आयोजित होने वाले माघ मेले को भव्य और दिव्य रुप में करा सकती है, तो कुम्भ जैसे महाआयोजन को विशाल रुप में क्यों संम्पन्न नहीं कराया जा सकता। जब प्रयागराज में लाखों टेंट लग सकते हैं, तो कुम्भ में क्यों नहीं ? महंत हरिगिरी ने सरकार से 1986, 1998 और 2010 की तरह इस बार भी गौरी शंकर सहित तमाम स्थानों पर विशाल-दिव्य टेंट लगाने की व्यवस्था की मांग की है।

Share, Likes & Subscribe