January 24, 2021

UK LIVE

ख़बर पक्की है

भर्ती के लिए 30 बेड से अधिक के अस्पताल के अनुभव का प्रमाण पत्र

सरकार के कड़े नियम,युवाओं के सपनों ने तोड़ा दम !

उत्तराखंड – राज्य में स्टाफ नर्स के पदों की भर्ती में सरकार ने नई शर्ते लागू की हैं। सरकार की इन शर्तों ने नर्सिंग पास कर चुके युवाओं के नौकरी पाने के सपने को तोड़ दिया है। सरकार ने युवा भर्ती को लेकर फार्म-16 और 30 बेड से ज्यादा के अस्पतालों में एक साल के अनुभव की शर्त रखी है। इस नये नियम से पहाड़ के युवाओं में काफी नाराज़गी है। युवाओं की मांग है, कि सरकार पहले भर्ती करे और उसके बाद प्रशिक्षण की भी व्यवस्था करें।

स्टाफ नर्स के लिए 1238 पदों पर भर्ती
स्टाफ नर्स के लिए 1238 पदों पर भर्ती

हाल ही में राज्य सरकार ने स्टाफ नर्स के लिए 1238 पदों पर भर्ती निकाली है। जिसमें आवेदकों को फार्म-16 के साथ एक साल का अनुभव होना अनिवार्य किया गया है।
राज्य सरकार की रखी गई इस शर्त पर एलिंग वेलफेयर नर्सिंग फाउंडेशन के प्रदेश अध्यक्ष बबलू कुमार का कहना है, कि स्टाफ नर्स पद के लिए डिप्लोमा धारकों के लिए बीएससी नर्सिंग स्तर की परीक्षा का पैटर्न रखा गया है।

भर्ती के लिए 30 बेड से अधिक के अस्पताल के अनुभव का प्रमाण पत्र

आवेदक से भर्ती के लिए 30 बेड से अधिक के अस्पताल के अनुभव का प्रमाण पत्र मांगा गया है। जबकि देहरादून, हरिद्वार, नैनीताल और ऊधमसिंहनगर जिलों को छोड़कर कहीं भी 30 बेड या उससे अधिक का कोई निजी अस्पताल नहीं है। जिसके चलते एनएचएम कार्यक्रम में कम्युनिटी हेल्थ ऑफिसर पद पर तैनात युवा भी स्टाफ नर्स की भर्ती के लिए अयोग्य हो गए हैं।
जानकारी के मुताबिक, राज्य के मेडिकल कॉलेजों और सरकारी अस्पतालों में लंबे समय से खाली चल रहे नर्सों के दो हजार से अधिक पदों में से अभी सिर्फ 1238 पदों पर भर्ती निकली है। एक हजार के करीब पदों पर भर्ती की प्रक्रिया अभी शुरु होनी है। राज्य में लगभग 15 हजार पास आउट हो चुके युवा इन भर्तियों को इंतजार कर रहे थे। बताया जा रहा है, कि राज्य में सरकारी मेडिकल कॉलेजों की स्थापना के बाद नर्सिंग पद अभी तक खाली हैं।

Share, Likes & Subscribe