January 17, 2021

UK LIVE

ख़बर पक्की है

क्या गर्भवती महिलाओं या ब्रेस्ट फीडिंग कराने वाली महिलाओं के लिए ये वैक्सीन सुरक्षित है ?

नेशनल डेस्क-नई दिल्ली- कोरोना वैक्सीन के रोकथाम के लिए वैक्सीन डेवलपमेंट को लेकर लगातार कई अच्छी खबरे आ रही हैं. यूके ने फाइजर बायोन्टेक के इस्तेमाल की मंजूरी दे दी है. अमेरिका, ब्रिटेन और दुबई समेत दुनिया के 6 दूसरे देशों में कोरोना की ये वैक्सीन दी जा रही है. वही भारत में भी अगले महीने से कोरोना वैक्सीनेशन शुरू हो जाऐगा. इसके लिए भारत सरकार ने लगभग सारी तैयारियां पूरी कर ली हैं और अपनी कमर कस ली है. तो क्या गर्भवती महिलाओं ब्रेस्ट फीडिंग कराने वाली महिलाओं के लिए ये वैक्सीन सुरक्षित है ?

अमेरिका, ब्रिटेन और दुबई समेत दुनिया के 6 दूसरे देशों में दी जा रही है कोरोना की ये वैक्सीन
अमेरिका, ब्रिटेन और दुबई समेत दुनिया के 6 दूसरे देशों में दी जा रही है कोरोना की ये वैक्सीन

इसी बीच कोरोना वैक्सीन से उम्मीदें बढ़ती जा रही हैं. चिंता इस बात की है,कि गर्भवाती महिलाओं या ब्रेस्ट फीडिंग करा रही महिलाओं के लिए वैक्सीन कब आएगी। ऐसा इसलिए क्योंकि अभी तक जो वैक्सीन सामने आई हैं,उनमें से किसी का गर्भवाती,बच्चों या ब्रेस्ट फीडिंग करा रही महिलाओं पर परीक्षण नहीं हुआ है.

क्या गर्भवती महिलाओं या ब्रेस्ट फीडिंग कराने वाली महिलाओं को करना होगा वैक्सीन का लंबा इंतजार ?
क्या गर्भवती महिलाओं या ब्रेस्ट फीडिंग कराने वाली महिलाओं को करना होगा वैक्सीन का लंबा इंतजार ?

ऐसे में सवाल उठना लाजिमी है,कि क्या गर्भवती महिलाओं या ब्रेस्ट फीडिंग कराने वाली महिलाओं के लिए ये वैक्सीन कितनी सुरक्षित है और क्या उन्हें वैक्सीन के लिए लंबा इंतजार करना पड़ेगा?
फाइजर और बायोन्टेक की बनी वैक्सीन दुबई में लोगों को लगाई जा रही है.कंपनी ने माना है, कि वैक्सीन के क्लीनिकल ट्रायल में गर्भवती और ब्रेस्ट फीडिंग कराने वाली महिलाओं को शामिल नहीं किया गया था.इसलिए यह नहीं कहा जा सकता कि, ये वैक्सीन गर्भवाती या ब्रेस्ट फीडिंग कराने वाली माहिलाओं पर कैसा असर करेगी.

अमेरिका ने वैक्सीन लगवाने का फैसला छोड़ा गर्भवती या ब्रेस्ट फीडिंग कराने वाली महिलाओं पर
अमेरिका ने वैक्सीन लगवाने का फैसला छोड़ा गर्भवती या ब्रेस्ट फीडिंग कराने वाली महिलाओं पर

ब्रिटेन सरकार ने इस संबंध में दिशा-निर्देश जारी करते हुए कहा है कि, गर्भवती माहिलाओं को तब तक कोरोना वैक्सीन नहीं दी जाएगी जब तक उन पर परीक्षण के नतीजे नहीं आ जाते.
वहीं अमेरिका ने वैक्सीन लगवाने का फैसला गर्भवती या ब्रेस्ट फीडिंग कराने वाली महिलाओं पर ही छोड़ दिया है.
भारत में कोरोना वैक्सीन के ट्रायल में बच्चों को शामिल नहीं किया गया है.इससे ये वैक्सीन बच्चों पर क्या असर करेगी इसकी अभी तक कोई जानकारी सामने नहीं आई है.अमेरिका में भी 16 साल से ज्यादा उम्र के लोगों को ही वैक्सीन दी जा रही है.

Share, Likes & Subscribe