January 20, 2021

UK LIVE

ख़बर पक्की है

ड्रैगन और पाक देश के लिए बड़ा खतरा- मुकुंद नरवणे,सेना प्रमुख !

नेशनल डेस्क- नई दिल्ली- हर साल 15 जनवरी को देश में सेना दिवस मनाया जाता है. मंगलवार को सेना प्रमुख मनोज मुकुंद नरवणे ने भारतीय सेना की वार्षिक कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए कहा, कि पिछले साल हम सभी के लिए काफी चुनौतियों भरा था और इसका सामना करते हुए हम आगे बढ़े हैं.

सेना प्रमुख मनोज मुकुंद नरवणे ने चीन और पाकिस्तान को बताया खतरा
सेना प्रमुख मुकुंद नरवणे ने चीन और पाकिस्तान को बताया भारत के लिए खतरा

इस दौरान उन्होंने चीन और पाकिस्तान पर निशाना साधते हुए कहा, कि इस समय चीन और पाकिस्तान भारत के लिए एक बड़ा खतरा बने हुए है.और दोनों भारत के लिए शक्तिशाली खतरा पैदा करते हैं. इसके चलते टकराव की आशंका को दूर नहीं किया जा सकता. इनसे निपटने के लिए सही समय में उचित कार्रवाई की जाएगी.

सेना प्रमुख मनोज मुकुंद नरवणे ने भारतीय सेना की वार्षिक कॉन्फ्रेंस को करा संबोधित
सेना प्रमुख मनोज मुकुंद नरवणे ने भारतीय सेना की वार्षिक कॉन्फ्रेंस को करा संबोधित

सेना प्रमुख मनोज मुकुंद ने आगे कहा, कि पाकिस्तान की ओर से लगातार आतंकवाद को बढ़ावा दिया जा रहा है, लेकिन हम आतंकवाद के लिए जीरो- टोलरेंस रखते है. ये एक साफ संदेश है. सेनाध्यक्ष ने कहा, कि उत्तरी सीमाओं को दोबारा संतुलित करने की आवश्यकता है, और हमने इसे लागू किया है. और कहा कि जब तक हम राष्ट्रीय लक्ष्यों और उद्श्यों को प्राप्त नहीं कर लेते तब तक के लिए हमने पूरी तैयारी की हुई है. इसके आगे उन्होने कहा कि एलएसी के मध्य और पूर्वी क्षेत्रों में घर्षण बिंदू है, जहां चीन ने बुनियादी ढ़ांचे का विकास किया हुआ है.

9 वें दौर की वार्ता का इंतजार
फाइल फोटो- 9 वें दौर की वार्ता का इंतजार

सेना प्रमुख ने आगे कहा, कि हमने सिर्फ लद्दाख ही नहीं बल्कि पूरे एलएसी पर उच्च स्तर की निगरानी की हुई है. साथ ही कोर कमांडर स्तर के आठवें दौर की बातचीत हो चुकी है, अब 9 वें दौर की वार्ता का इंतजार है. इसके आगे वह कहते है कि हमें बातचीत के माध्यम से समाधान निकालने की उम्मीद कर रहे है. इसके अलावा सेनाध्यक्ष ने कहा कि भविष्य की चुनौतियों का सामना करने के लिए प्रोघोगिकी सक्षम सेना विकसित करने के लिए एक रोडमैप तैयार किया जा रहा है. इसमें सभी नई तकनीकी को शामिल करने पर फोकस किया जाएगा.

Share, Likes & Subscribe