January 24, 2021

UK LIVE

ख़बर पक्की है

‘मेड इन इंडिया’ कोरोना वैक्सीन ने मचाई पूरी दुनिया में धूम- 10 देशों ने मांगी भारत से मद्द

स्वेदेशी वैक्सीन की बढ़ी डिमांड, 10 देशों ने मांगी भारत से मदद !

नेशनल डेस्क- नई दिल्ली- कोरोना महामारी के बीच दुनिया को इसकी वैक्सीन ‘मेड इन इंडिया’ का बेस्रबी से इंतजार है. ऐसे में कोरोना वैक्सीन को लेकर कई देश भारत का रूख कर रहे है. भारत वैक्सीन के उत्पादन और आपूर्ति के लिए पूरी तरह से तैयार है . अब तक करीब 10 देश ऐसे हैं, जिन्होंने भारत में बनी वैक्सीन उपलब्ध कराने के लिए अनुरोध किया है.

भारत में कोरोना की वैक्सीन बनकर तैयार
फाइल फोटो- भारत में कोरोना की वैक्सीन बनकर तैयार

जानकारी के मुताबिक, कम लागत और प्रभावी डेटा के आधार पर मांग लगातार बढ़ रही है. और भारत अपनी जरूरतों को पूरे करने के साथ-साथ दुनिया के अन्य देशों की भी मदद करने के लिए आगे बढ़ेगा. ब्राजील, मोरक्को, सऊदी, अरब, म्यांमार, बांग्लादेश, दक्षिण अफ्रीका, मंगोलिया जैसे देशों ने भारत से वैक्सीन की आधिकारिक तौर पर मांग की है.

आधिकारियो का कहना है, कि कोरोना वैक्सीन के वितरण में भारत सरकार बांग्लादेश, भूटान, नेपाल. श्रीलंका और अफगानिस्तान जैसे पड़ोसी देशों को तवज्जो देगी. साथ ही दूसरे देशों से आने वाली डिमांड को भी पूरा करने का प्रयास किया जाएगा. गरीब देशों के लिए डब्ल्यूएचओ में जाहिर की गई प्रतिबध्दता को भी भारत पूरा करेगा.

‘मेड इन इंडिया’ कोरोना वैक्सीन ने मचाई पूरी दुनिया में धूम- 10 देशों ने मांगी भारत से मद्द
‘मेड इन इंडिया’ कोरोना वैक्सीन ने मचाई पूरी दुनिया में धूम- 10 देशों ने मांगी भारत से मद्द

विदेश मंत्रालय के प्रवत्ता अनुराग श्रीवास्तव का कहना है, कि भारत शुरू से ही कोविड- 19 महामारी के खिलाफ आम लड़ाई में वैश्विक प्रतिक्रिया में सबसे आगे रहा है. हम इस दिशा में सहयोग करने को अपने कर्तव्य के तौर लेते है. इसमे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने खुद कहा, कि भारत से अनुरोध किया गया है, कि वे सरकारी स्तर पर गवर्नमेंट टू गवर्नमेंट के अधार पर(G2G) या सीधे वैक्सीन डेवलपर्स के साथ समझौते के निर्देश दें, जो भारत में वैक्सीन का निर्माण कर रहे है.

नेपाल ने भारत से 120 लाख  वैक्सीन के डोज की, करी मांग
फाइल फोटो- नेपाल ने भारत से 120 लाख वैक्सीन के डोज की, करी मांग

जानकारी के मुताबिक, नेपाल ने भारत से 120 लाख कोरोना वैक्सीन के डोज की मांग की है. वहीं, भूटान ने पूणे के सीरम इंस्टीटयूट ऑफ इंडिया में निर्मित की जा रही वैक्सीन की 10 लाख डोज की मांग की है. म्यांमार ने भी सीरम के साथ एक खरीद अनुबंध पर हस्ताक्षर किए हैं. उधर, बांग्लादेश ने कोविशील्ड की 3 करोड़ डोज के लिए पहले ही अनुरोध किया है.

Share, Likes & Subscribe