January 16, 2021

UK LIVE

ख़बर पक्की है

कुंभ में क्यों नहीं आ रहे विदेशी श्रद्धालु, ये है बड़ी वजह !

उत्तराखंड-हरिद्वार- हरिद्वार में होने वाला 2021 का महाकुंभ देश में ही नहीं बल्कि दुनियाभर में चर्चा का विषय बना हुआ है. ऐसा इसलिए है, क्योंकि ये कोरोनाकाल में दुनिया के किसी भी देश में होने वाला सबसे बड़ा पर्व होगा. आस्था के इस महाकुंभ में हज़ारों नहीं बल्कि लाखों की तादाद में श्रद्धालु पहुंचेगे. और ये सब होगा कोरोना महामारी के साये में. जिसके चलते दुनिया भर के देश डरे सहमें हैं.

ऐसा नहीं है, कि कोरोना पर महामारी का साया नहीं है. लेकिन भारत सरकार ने उत्तराखंड सरकार के साथ मिलकर कुंभ पर्व को कराने के लिए करोना की गाइडलाइंस बनाई हैं. इन गािडलाइंस का कुंभ मेले के आयोजन मेंपूरा ध्यान रखा जाए ऐसी व्यवस्था सुनिश्चित की जा रही है. लेकिन आस्था के इस कुंभ में विदेशों से आने वाले श्रद्धालु हिस्सा नहीं ले सकेंगे. इसकी एक बड़ी वजह है, भारत में टूरिस्ट वीजा पर रोक. जिसके चलते इस बार कुंभ में विदेशी श्रद्धालुओं की संख्या बेहद कम नजर आऐगी.

कई अखाड़ों के साधु-संतों की बड़ी संख्या में विदेशी अनुयायी
फाइल फोटो- कई अखाड़ों के साधु-संतों की बड़ी संख्या में विदेशी अनुयायी

दुनिया के कई देशों से श्रद्धालु कुंभ पहुंचते हैं. कई अखाड़ों के साधु-संतों के बड़ी संख्या में विदेशी अनुयायी हैं. कुंभ के दौरान निकलने वाली पेशवाई और शोभायात्राओं में विदेशी श्रद्धालुओं की अलग ही रौनक दिखाई पड़ती है. पिछले कुंभ में जूना अखाड़े के पायलट बाबा और सोहम बाबा अपने सैकड़ों विदेशी अनुयायियों के साथ हरिद्वार पहुंचे थे. लेकिन इस बार शायद ही विदेशी श्रद्धालु कुंभ मेले में नजर आएं.

कोरोना के चलते टूरिस्ट वीजा पर लगी रोक, कुंभ में नहीं होंगे विदेशी श्रध्दालु शामिल
फाइल फोटो- कोरोना के चलते टूरिस्ट वीजा पर लगी रोक, कुंभ में नहीं होंगे विदेशी श्रध्दालु शामिल

कोरोना वैक्सीनेशन शुरु होने के बाद टूरिस्ट वीजा पर लगी रोक हट सकती है. मेला आई संजय गु्ज्याल की माने तो मेला पुलिस के पास हज़ारों की तादाद में विदेशी श्रद्धालुओं के मेल आ रहे हैं. जिनमें कुंभ में पहुंचने की जानकारियां मांगी जा रही हैं. जानकारी के मुताबिक 2010 में सम्पन्न हुए हरिद्वार कुंभ में तमाम देशों के 10 हजार से ज्यादा श्रद्धालु पहंचे थे. इनमें स्पेन, ब्राजील, कनाडा, जर्मनी, जापान, इंडोनेशिया, मॉरीशस समेत कई दूसरे देशों के श्रद्धालु शामिल थे. जबकि 2014 के अर्ध्दकुंभ में 8,714 विदेशी श्रद्धालु शामिल हुए थे.

पेशवाई और शोभायात्राओं में विदेशी श्रध्दालुओं की रहती है भारी मौजूदगी
फाइल फोटो – पेशवाई और शोभायात्राओं में विदेशी श्रध्दालुओं की रहती है भारी मौजूदगी courtesy Google

कुंभ मेले में शामिल होने के लिए विदेशी श्रद्धालु को कुछ जरुरी औपचारिकताएं पूरी करनी होती हैं. धर्मनगरी आने वाले इन श्रद्धालुओं को मेला पुलिस को जानकारी देनी होती है, कि वो कितने दिनों के लिए, किस संत की छावनी में रहेंगे. जिसकी जानकारी मिलने के बाद मेला पुलिस विदेशी श्रद्धालुओं की सूची तौयार करता है.

Share, Likes & Subscribe