March 2, 2021

UK LIVE

ख़बर पक्की है

ग्राउंड ज़ीरो से सुरंग की “ड्रोन रिपोर्ट” !

उत्तराखंड, चमोली , रैणी गांव में जिधर भी नज़र जाती है, हर तरफ वर्बादी का खौफनाक मंजर नज़र आता है. जेसीबी मशीनों की गड़गड़ाहट सन्नाटे को चीरती सुनाई पड़ती है. रेस्क्यू ऑपरेशन में लगे जवानों का शोर. मलवे को हटाने के लिए कड़ी मशक्त. हर जवान अपनी जान जोखिम में डालकर सुंरग के अंदर दाखिल होता है और फिर नामुमकिन को मुमकिन करने में जुट जाता है.

सुरंग के भीतर मलबे में दबे यहां काम करने वाले करीब दो दर्जन मजदूरों के फंसे होने की आशंका जताई जा रही है. और इन्हीं इंसानी जिंदगियों को मौत की इस सुरंग से निकालने की जद्दोजहद में 72 घंटे से भी ऊपर का वक्त गुज़र चुका है. लेकिन जवानों के हौसले पस्त नहीं हुए हैं. कहते हैं कि जब कुदरत करिश्मा दिखाती है तो सूखे दरख्त भी हरे हो उठते हैं, उम्मीद की इसी एक किरण में ITBP SDRF NDRF के साथ तमाम ऐजेंसियां सुरंग को साफ कर इसमें फंसे इंसानों को निकालने में जुटी है.

मशीनी और तकनीकि के इस युग में करीब 180 मीटर लंबी सुंरग से मलबे को साफ करने में 72 घंटे से भी ऊपर का वक्त लगना इंसान की बेबसी की कहानी वयां करता है. लेकिन वहीं सुरंग में रास्ता कैसा और कहां है इसके लिए भी तकनीकि का सहारा लिया जा रहा है. मतलब ड्रोन का सहारा. सुरंग के अंदर ड्रोन कैमरे को टॉर्च की रौशनी में उड़ाया जा रहा है और फिर आगे के रास्ता कैसा है ये पता लगा कर उम्मीद की एक किरण को आगे बढ़ाया जा रह है . ईश्वर करे ये उम्मीद की किरण सफलता में बदले.

देखिए ये वीडिओ

रेस्क्यू ऑपरेशन के लिए ड्रोन का सहारा

Share, Likes & Subscribe