February 26, 2021

UK LIVE

ख़बर पक्की है

डिजिटल वैक्सीनेशन की होगी शुरुवात, वैक्सीनेशन के साथ कोविन ऐप भी होगा लॉन्च !

नेशनल डेस्क- नई दिल्ली16 जनवरी से पूरे भारत भर में वैक्सीनेशन का काम शुरू होने जा रहा है. भारत का वैक्सीनेशन अभियान दुनिया का सबसे बड़ा वैक्सीनेशन अभियान है. ऐसे में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शनिवार को वैक्सीनेशन के साथ- साथ कोविन ऐप भी लॉन्च करने जा रहे है.

देश के हर जरूरतमंद तक पहुंचाएगा कोविन ऐप वैक्सीन
देश के हर जरूरतमंद तक पहुंचाएगा कोविन ऐप वैक्सीन

केंद्र सरकार ने कोविन ऐप शुरू किया है. वैक्सीनेशन के पहले चरण में इससे जुड़े 80 लाख लोगों को वैक्सीन के खुराक दी जाएगी. इस ऐप के जरिए भारत के स्वास्थ्य डेटा को एक जगह पर रखने मे मद्द मिलेगी. देश के हर जरूरतमंद तक कोविन ऐप वैक्सीन पहुंचाएगा. केंद्र सरकार की ओर से कोविन ऐप लॉन्च किया जाएगा,जिसे कोई भी व्यक्ति गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड कर सकता है. कोविन ऐप डाउनलोड करने के बाद इसमें पूरी जानकारी डालनी होगी और इसके लिए लोगों को खुद कोविन ऐप पर रजिस्ट्रेशन कराना होगा.

पहले चरण में इससे जुड़े 80 लाख लोगों को वैक्सीन के खुराक दी जाएगी.
पहले चरण में इससे जुड़े 80 लाख लोगों को वैक्सीन के खुराक दी जाएगी.

कैसे कोविन ऐप देश के कोने-कोने में वैक्सीन पहुंचाने में करेगा ऐसे मदद-


कोविन ऐप एक इलेक्ट्रॉनिक प्लेटफॉर्म है, जिस पर वैक्सीनेशन से जुड़ा सारा डेटा मौजूद रहेगा. ये वैक्सीन लगवाने वालों को ट्रैक करेगा और उन्हें वैक्सीन साइट्स की जानकारी, तारीख और समय बताएगा. वैक्सीनेशन से पहले और बाद की प्रक्रियाओं की निगरानी भी करेगा. इस ऐप में भारत में लगाई जाने वाली वैक्सीन का पूरा डिजिटल डेटाबेस होगा.

वैक्सीन लगवाने वालों को ट्रैक करेगा और उन्हें वैक्सीन साइट्स की जानकारी, तारीख और समय बताएगा.
वैक्सीन लगवाने वालों को ट्रैक करेगा और उन्हें वैक्सीन साइट्स की जानकारी, तारीख और समय बताएगा.

ऐप के जरिए हर एक व्यक्ति को यूनिक हेल्थ आइडेंटिटी देने की योजना है. वैक्सीनेशन के प्रतिकूल प्रभावों पर भी पूरी निगरानी रखी जाएगी, ताकि तत्काल में हरसंभव स्वास्थ्य संबंधित सेवाएं दी जाए.

कोविन ऐप पर 24 घंटे हेल्पलाइन की सुविधा उपलब्ध होगी. कोविन ऐप अभी लोगों के लिए उपलब्ध नहीं है, लेकिन उससे पहले ही ठगों ने कोविन के नाम से नकली ऐप बनाकर लोगों को ठगना शुरू कर दिया है. इसके लिए स्वास्थय मंत्रालय ने कहा है, कि हमने नागरिकों को चेतावनी दी है, औऱ कहा है कि लोगों को इससे बचकर रहना चाहिए. इन ऐप पर अपनी कोई निजी जानकारी ना दें. असली ऐप के आते ही सरकार उसके बारे में अधिकारिक जानकारी लोगों तक पहुंचाई जाएगी.

Share, Likes & Subscribe