January 25, 2021

UK LIVE

ख़बर पक्की है

जानें कैसे लगेगी वैक्सीन और क्या हैं तैयारियां !

नेशनल डेस्क- नई दिल्ली– कोरोना महामरी से निपटने के लिए दुनियाभर में वैक्सीन बनाई जा रही है। कोरोना जैसी महामारी ने पूरे विश्व में तबाही मचा रखी है। इसकी चपेट में अमेरिका जैसा महाशाक्तिशाली देश भी अपने 3 लाख से ज्यादा लोग जिंदगी से हाथ धो बैठे हैं। तो वहीं भारत में भी इस महामारी की चपेट में आकर 1 लाख 43 हजार से ज़्यादा लोग अपनी जिदंगी खो चुके है। लेकिन अब इस महामारी से निपटने के लिए दुनियाभर के डॉक्टर और वैज्ञानिक ज़ोर शोर से इसकी तैयारियों में लगे हैं।भारत में भी इसके चलते कई ऐसी वैक्सीनो में काम चल रहा है, और उम्मीद भी यही है कि इनमें से तीन से चार टीके जल्द ही लोगों को उपलब्ध कराए जाएगें। जानें कैसे लगेगी वैक्सीन और क्या हैं तैयारियां !

कोरोना महामारी से निपटने में लगे दुनियाभर के डॉक्टर
कोरोना महामारी से निपटने में लगे दुनियाभर के डॉक्टर


सीरम इंस्टीटयूट ऑफ इंडिया के सीईओ अदार पूनावाला का दावा है, कि उनकी कंपनी को इस महीने के अंत तक वैक्सीन की इजाजत मिल सकती है। जानकारी के मुतीबिक अदार पूनावाला की कंपनी ब्रिटेन की ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनका के साथ मिलकर कोविडशील्ड नाम की वैक्सीन बना रहे हैं। इसके अलावा भारत बायोटेक और फाइजर इंडिया भी भारत में वैक्सीन की रेस में हैं। भारत के स्वास्थ्य अधिकारी जगह-जगह निरीक्षण कर रहे हैं, जहां कोरोना वायरस की वैक्सीन लगाई जाएगी। निज़ी अस्पतालों और नर्सिंग होम को भी टीकाकरण के लिए उपयोग में लाया जाएगा। जानकारी के मुताबिक यह अनुमान लगाया जा रहा है, कि अगले साल के मध्य तक 300 मिलियन भारतीयों को वैक्सीन लगा दी जाएगी और यह ध्यान में रखा जाएगा की हर एक अस्पाताल और नर्सिंग होम को इस तरह से तैयार किया जाएगा कि वहां कम से कम 100 लोगों को वैक्सीन लगाई जा सके। टीकाकरण का अभियान सबुह 9 से 5 बजे तक चलेगा।

अंतिम दौर पर पहुंचा वैक्सीन निर्माण
अंतिम दौर पर पहुंचा वैक्सीन निर्माण


अधिकारीयों की जानकारी के मुताबिक दो प्रकार की साइटें तैयार की गई है पहली होगी फिक्स्ड यानी तय साइटें और दूसरी होंगी आउटरीच साइटें । आउटरीच साइटों के लिए मतदान केंद्रों को विकल्प के तौर पर देखा जा रहा है। मतदाता सूची से वैक्सीन की पहचान की जा रही है, इसको ध्यान में रखते हुए मतदाता केंद्रों मे उनके लिए साइटों को निर्धारित करना ही सबसे अच्छा होगा। स्वास्थ्य अधिकारी मतदान केंद्रों के अलावा वैक्सीन को स्कूलों, कॉलेजों, और सामुदायिक हॉलों में रखे जाने का विचार कर रहे हैं। राज्यों और केंद्र को दी गई गाइडलाइन्स के मुतबिक, नगरपालिका कार्यालय, पंचायत भवन, विवाह स्थल,छावनी अस्पताल, रेलवे अस्पताल आदि को आउटरीच साइटों के रूप में प्रयोग में लाया जा सकता हैं।


कोलकता स्थित एक सार्वजानिक स्वास्थय विशेषज्ञ, डॉ प्रान्तर चक्रवर्ती कहते हैं कि मतदान केंद्रों या अस्पतालों में टीका शिविर लगाना एक अच्छा विचार है, लेकिन इसके लिए सरकार को लोगों को स्लॉट्स देने चाहिए। जैसे वे पासपोर्ट कार्यालयों में करते हैं। यह टीके के लिए काफी अधिक प्रभावित बन सकता है और सामाजिक दूरी बनाए रखने में मद्द कर सकता हैं।

वैक्सीनेशन की तैयारियां अंतिम चरण में
वैक्सीनेशन की तैयारियां अंतिम चरण में


एक अधिकारी ने इस बारे में जानकारी देते हुए बताया, कि जिन लोगों को टीका लगना है, उनकी सूची तैयार कर ली जाए, जिसके बाद ये ठीक से पता चल जाएगा, कि आखिर टीका लगाने के लिए कितनी साइटों की जरूरत होगी। यदि किसी क्षेत्र में 100 से कम टीका लगवाने वाले लोग हैं, तो उन्हें दूसरे क्षेत्रों के साथ क्लब किया जाएगा।

Share, Likes & Subscribe