January 21, 2021

UK LIVE

ख़बर पक्की है

गंगोत्री-यमोनत्री के साथ बद्री-केदार चढ़ेगी ट्रेन !

उत्तराखंड- अपनी खूबसूरती के लिए मशहूर उत्तराखंड हजारों की तादाद में पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करता है. उत्तराखंड के लोग चार धाम की यात्रा के लिए तो जाते ही हैं, साथ ही यहां कई दूर दराज राज्यों से भी लोग चारधाम के दर्शन के लिए आते हैं. उत्तराखंड के बड़े बुजुर्ग की ये ख्वाहिश रहती है, कि मरने से पहले वो एक बार इन चारों धामों के दर्शन कर लें. लेकिन कच्चे और पैदल रास्तों के चलते ये संभव नहीं हो पाता.

रास्तों के चलते दर्शन न कर पाने वाले अब रेल से जाकर सकेंगे दर्शन
फाइल फोटो- रास्तों के चलते दर्शन न कर पाने वाले अब रेल से जाकर सकेंगे दर्शन

रास्तों की कठिनाईयों के चलते चारधाम के दर्शन न कर पाने वालो के लिए एक अच्छी खबर है. गंगोत्री-यमुनोत्री के बाद रेल विकास निगम ने अब बद्रीनाथ-केदारनाथ रेल लाइन की डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट तैयार कर रेलवे बोर्ड को भेज दी है. जानकारी के मुताबिक परियोजना पर 44 हजार करोड़ रुपये खर्च का अनुमान है. बद्रीनाथ और केदारनाथ धाम के लिए पटरी बिछाने का काम कर्णप्रयाग से शुरु करवाया जाएगा.

पटरियों को बिछाने के लिए 11 सुरंगों और 12 बड़े पुलों का होगा निर्माण
फाइल फोटो- पटरियों को बिछाने के लिए 11 सुरंगों और 12 बड़े पुलों का होगा निर्माण

बद्रीनाथ के लिए जोशीमठ तक रेल लाइन बिछाई जाएगी. जिसकी लंबाई 68 किमी है. रेल मार्ग के बीच चार रेलवे स्टेशन स्थापित होंगे. पटरियों को बिछाने के लिए 11 सुरंगों और 12 बड़े पुलों का निर्माण होगा. इस रेलमार्ग में सबसे लंबी सुरंग 14 किमी की होगी.   

रेलमार्ग में ये होंगे स्टेशन

कर्णप्रयाग-जोशीमठ: साईकोर्ट जंक्शन से पहला स्टेशन घाट रोड> पीपलकोटी> हेलंग> जोशीमठ।

कर्णप्रयाग-सोनप्रयाग: साईकोर्ट से पहला स्टेशन बड़ेत> फलासी चोपता>  मक्कू मठ>  गढ़गू> ऊखीमठ> सोनप्रयाग

फाइल फोटो- गंगोत्री-यमोनत्री के साथ बद्री-केदार चढ़ेगी ट्रेन
फाइल फोटो- गंगोत्री-यमोनत्री के साथ बद्री-केदार चढ़ेगी ट्रेन

रेल विकास निगम की योजना बद्रीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री तक रेल पहुंचाने की है. जोशीमठ और सोनप्रयाग के बाद परिवहन के और दूसरे व्यवहारिक माध्यमों को टटोला जा रहा है. निगम का परिवहन के विकल्पों को लेकर अध्ययन अभी जारी है. रेल विकास निगम के परियोजक प्रबंधक ओपी मालगुड़ी ने जानकारी देते हुए बताया, कि बद्रीनाथ-केदारनाथ रेल लाइन योजना की डीपीआर तैयार कर उसे रेलवे बोर्ड को भेज दिया गया है. परियोजना में करीब 44 हजार करोड़ की लागत आंकी जा रही है.

Share, Likes & Subscribe