February 25, 2021

UK LIVE

ख़बर पक्की है

सत्यापन के बाद भी रोज़गार पाने को भटक रहे दर-दर !

उत्तराखंड- भर्ती परीक्षा पास करने और डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन के बाद अधीनस्थ सेवा चयन आयोग ने 64 केन्डिडेट की अंतिम चयन सूची पावर ट्रांसमिशन कारपोरेशन ऑफ उत्तराखंड को भेजी, जिसके बावजूद अभी तक इनमें से 44 कन्डिडेट को रोज़गार नहीं मिला, और ये युवा रोज़गार के लिए दर-दर भटक रहे हैं।

परीक्षा पास करने के बाद भी रोजगार के लिए भटक रहे युवा
फाइल फोटो- परीक्षा पास करने के बाद भी रोजगार के लिए भटक रहे युवा

अक्टूबर 2016 में अधीनस्थ सेवा चयन आयोग ने पिटकुल में टेकनीशियन ग्रेड-2 के पदों पर भर्ती जारी की थी। जिसके बाद 12 नवंबर 2017 को इसकी परीक्षा कराई गई। परीक्षा का नतीजा आने के बाद आयोग ने 2019 अप्रैल में पास होने वाले कन्डिडेट के प्रमाण पत्रों कि जांच की। सत्यापन पूरा करने के बाद अगस्त 2019 में आयोग ने पिटकुल को अंतिम सूची भेज दी थी।

इस सूची में 64 केन्डिडेट्स को चुना गया था. पिटकुल ने दिसंबर 2019 में 20 केन्डिडेट को रोज़गार दे दिया था, लेकिन बचे हुए 44 केन्डिडेट आज भी रोज़गार के लिए चक्कर काट रहे हैं। उनका कहना है, कि जब अधीनस्थ सेवा चयन आयोग की परीक्षा पास करने के बाद उनके दस्तावेजों की जांच पूरी की जा चुकी है, तो उन्हें किस आधार पर नौकरी नहीं दी जा रही है ?

 44 केन्डिडेट आज भी रोज़गार के लिए चक्कर काट रहे हैं
फाइल फोटो- 44 केन्डिडेट आज भी रोज़गार के लिए काट रहे हैं चक्कर

चुने हुए केन्डिडेटस ने सवाल किए हैं, कि जब आयोग ने प्रमाण पत्रों की जांच कर ली थी, तो पिटकुल को दोबारा जांच करने की क्या ज़रूरत है। इसके अलावा अगर प्रमाण पत्रों की जांच करनी थी, तो सभी केन्डिडेटस के प्रमाण पत्रों के जांच के बाद रोज़गार दिया जाना चाहिए था। दूसरे लोगों को रोजगार देने का क्या अर्थ है। जानकारी के मुताबिक सभी 44 केन्डिडेटस के डाक्यूमेंटस में कुछ कमियां थी, इसलिए उनका वेरिफिकेशन कराया जा रहा है। जिनके डाक्यूमेंटस ठीक थे, उन्हें नियुक्ति दे दी गई थी।

Share, Likes & Subscribe