January 26, 2021

UK LIVE

ख़बर पक्की है

मोदी के ड्रीम प्रोजेक्ट “Central Vista” को सुप्रीम कोर्ट का ग्रीन सिग्नल !

नेशनल डेस्क- नई दिल्ली- सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ड्रीम प्रोजेक्ट सेंट्रल विस्टा को लेकर अपनी हरी झंडी दे दी है.कोर्ट ने इससे जुड़ी सभी याचिकाओं को खारिज कर दिया है. जस्टिस एएम खानविलकर, जस्टिस दिनेश माहेश्वरी और जस्टिस संजीव खन्ना की बेंच ने 2-1 के बहुमत से यह फैसला सुनाते हुए कहा, कि परियोजना को पर्यावरण मंत्रालय की ओर से दी गई हरी झंडी में कोई गड़बड़ी नजर नहीं आती, इसलिए पीठ सरकार इस योजना के लिए मंजूरी दे रही है.

सुप्रीम कोर्ट ने आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ड्रीम प्रोजेक्ट सेंट्रल विस्टा को लेकर अपनी हरी झंडी दिखा दी है
सुप्रीम कोर्ट ने पीएम मोदी के ड्रीम प्रोजेक्ट सेंट्रल विस्टा को दिया ग्रीन सिग्नल !

जानकारी के मुताबिक, इस परियोजना के खिलाफ पांच याचिकाएं दायर की गई थी, जिनमें दिल्ली विकास प्राधिकरण द्वारा भूमि उपयोग बदलने की अधिसूचना, पर्यावरण चिंताओं की अनदेखी आदि के मुद्दे शामिल थे. न्यायालय ने लंबी सुनवाई के बाद गत वर्ष 5 नवंबर को फैसला सुरक्षित रख लिया है.

सेंट्रल विस्टा प्रॉजेक्ट के खिलाफ याचिकाओं पर फैसला सुनाते हुए सुप्रीम कोर्ट ने कहा सेंट्रल विस्टा परियोजना को मंजूरी देते समय पर्यावरण मंत्रालय द्वारा दी गई सिफारिशों को भी बरकरार रखने के साथ-साथ निर्माण के दौरान पर्यावरण का भी ध्यान रखा जाना चाहिए.

कोर्ट ने कहा कि काम शुरू करने से पहले धरोहर संरक्षण समिति की मंजूरी लेना जरूरी होगा और इसके अलावा कोर्ट ने प्रोजेक्ट एरिया में निर्माण के दौरान स्मॉग गन और स्मॉग टॉवर लगाने के लिए कहा है.

सेंट्रल विस्टा रिडेवलपमेंट प्रोजेक्ट केंद्र सरकार के इस पूरे इलाके को रेनोवेट करने की योजना को कहा जाता है.
सेंट्रल विस्टा रिडेवलपमेंट प्रोजेक्ट केंद्र सरकार के इस पूरे इलाके को रेनोवेट करने की योजना को कहा जाता है.

सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट क्या है.
दिल्ली में राजपथ के दोनों तरफ के इलाके को सेंट्रल विस्टा कहते हैं. और सेंट्रल विस्टा रिडेवलपमेंट प्रोजेक्ट केंद्र सरकार के इस पूरे इलाके को रेनोवेट करने की योजना को कहा जाता है. इसी प्रोजेक्ट के तहत नए संसद परिसर का निर्माण किया जाना है. इसमें 876 सीट वाली लोकसभा, 400 सीट वाली राज्यसभा और 1224 सीट वाला सेंट्रल हॉल बनाया जाएगा.

संसद भवन को मिलेगी नई बिल्डिंग-
सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट के तहत संसद भवन को नई बिल्डिंग मिलेगी. यह करीब 64,500 मीटर में फैले आकार में त्रिकोणीय होगी. बिल्डिंग के निर्माण पर करीब 971 करोड़ रूपये खर्च किए जाएंगे. लोकसभा स्पीकर ओम बिड़ला ने कहा था कि ये नई इमारत भूकंप प्रतिरोधी होगी. सेंट्रल विस्टा रिडेवलपमेंट प्रोजेक्ट साल 2022 तक पूरे होने की उम्मीद है.

Share, Likes & Subscribe